Walk for health any time any where        Exercise daily for 45 minutes        Health is not automatic… work for it        Say no to excessive sugar, salt and fried food        Know your disease… .know your rights Manage stress before stress manages you        Follow doctors’ advice

emblem

स्कूल और किशोर स्वास्थ्य शिक्षा विभाग

सन् 1958 में विद्यालय स्वास्थ्य शिक्षा प्रभाग की स्थापना युवा पीढ़ी के लिए स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रमो को सशक्त करने की दृष्टि से हुई थी। यह शिक्षा मंत्रालय, एनसीईआरटी और वयस्क शिक्षा निदेशालय के साथ बतौर तकनीकी संसाधन केंद्र काम करता है। औपचारिक और गैर-औपचारिक शिक्षा के लिए स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रम को सशक्त बनाने के लिए देश की इन सभी एजेंसियों और राज्य स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभागों और विश्वविद्यालयों के साथ मिलकर कार्य करता है।
 

The functions of the Division are: प्रभाग के कार्य निम्नावत हैं :
 

  1. 1. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, शिक्षा एवं संस्कृति मंत्रालय, राज्य सरकारें और प्रमुख संगठनो की योजनाओं, कार्यक्रमों और नीतियों का भाषांतर करना ताकि देश में उनकी शिक्षा सही प्रकार से प्रतिबिंबित हो।
  2. 2. विभिन्न स्तरों की अनुमानित आवश्यकताओं के अनुसार स्वास्थ्य और जनसंख्या शिक्षा पाठ्यक्रम के लिए योजना बनाना, उसे सशक्त करना और उसे संशोधित करना।
  3. 3. कार्यक्रम के विभिन्न घटकों के संदर्भ में विभिन्न संगठनो को विद्यालय स्वास्थ्य के बारे में परामर्शी और सलाहकारी सेवा प्रदान करना।
  4. 4. राज्यों और संघ शासित प्रदेशों में चलाए जा रहे विद्यालय स्वास्थ्य क्षेत्र की योजनाओं और कार्यक्रमो का समन्वय करना।
  5. 5. To produce ‘type’ instructional material for strengthening health education components of formal and non-formal education. औपचारिक और अनौपचारिक शिक्षा के स्वास्थ्य शिक्षा घटकों को सशक्त करने हेतु टंकित निर्देशात्मक सामग्री तैयार करना।
  6. 6. To act as clearing house for information materials, projects and plans related to health education components of formal and non-formal programmes of education. शिक्षा के औपचारी और अनौपचारिक कार्यक्रमों के स्वास्थ्य शिक्षा के घटकों से संबंधित सूचना सामग्री, परियोजनाएं और योजनाओं के लिए समाशोधन गृह के रूप में कार्य करना।
  7. 7. To conduct pre-service and in-service education programmes. सेवा पूर्व और सेवा के दौरान शिक्षा कार्यक्रमो का आयोजन करना।
     

विद्यालय के पाठ्यक्रम में स्वास्थ्य शिक्षा के घटक को सशक्त करने के लिए, विद्यालय स्वास्थ्य शिक्षा प्रभाग ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की कक्षा IX और X के लिए शारीरिक शिक्षा और स्वास्थ्य शिक्षा या सीबीएसई की कक्षा XI और XII (व्यावसायिक शिक्षा) के तहत बतौर एक अलग विषय पाठयविवरण विकसित किया। इसने शारीरिक शिक्षा के डिग्री पाठ्यक्रमों में प्रयोग किए जाने वाले स्वास्थ्य शिक्षा पाठ्यविवरण को भी विकसित किया। इसके अतिरिक्त, इसने स्वास्थ्य शिक्षा को वयस्क शिक्षा अधिकारियों के लिए प्रशिक्षण हेतु प्रारम्भिक शिक्षक प्रशिक्षण को बीटी/ BEd ॰ के लिए एकीकृत करने के लिए पाठयविवरण विकसित किया है। विद्यालय स्वास्थ्य शिक्षा प्रभाग ने जनसंख्या शिक्षा में स्वास्थ्य शिक्षा घटक को भी एकीकृत किया है। प्रभाग द्वारा माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों और राज्य स्वास्थ्य और शिक्षा विभागों के लिए एक जनसंख्या शिक्षा निर्देशिका विकसित की गयी। प्रभाग ने राष्ट्रीय सामाजिक सेवा स्वयंसेवकों और प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों के प्रयोगार्थ विवरणिकाये, पुस्तिकाएं भी बनाई हैं। शिक्षकों, चिकित्सीय और पराचिकित्सीय अधिकारियों को प्रशिक्षण देना प्रभाग का एक मुख्य कार्य है। यह ब्यूरो द्वारा आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लेने वाले विभिन्न श्रेणियों के कर्मचारियों को भी प्रशिक्षण प्रदान करता है।

विद्यालय स्वास्थ्य शिक्षा प्रभाग डीजीएचएस का एक केंद्रीय बिन्दु है जो देश में विद्यालय स्वास्थ्य सेवाएं कार्यक्रम को निगरानी करता है। प्रभाग पहले राष्ट्रीय विद्यालय स्वास्थ्य योजना को भी निगरानी करता था जो बाद में राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों को हस्तांतरित कर दी गयी। एक और कार्यक्रम जिसे प्रभाग निगरानी करता था, वह था गहन आरंभिक परियोजना जिसे स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा प्रारंभ किया गया था जिसका उद्देश्य देश में बृहत विद्यालय स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रम के लिए राष्ट्रीय दिशानिर्देश तैयार करने हेतु अनुभव प्राप्त करना था।
 

प्रभाग के कार्य और कर्तव्य
 

  1. देश में विद्यालय और किशोर स्वास्थ्य शिक्षा के लिए योजना बनाना, डिज़ाइन तैयार करना, सशक्त करना और पुनरीक्षण करना।
  2. शिक्षा विभाग (मानव संसाधन विकास मंत्रालय), राज्यों के शिक्षा विभागों से संपर्क स्थापित करना और उन्हें बनाए रखना।
  3. विद्यालय स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रम को सुगम बनाना, उसका समन्वय करना और उसे सशक्त बनाना।
  4. विद्यालय और किशोर शिक्षा के क्षेत्र में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में परामर्शी और सलाहकारी सेवाएं सुगम बनाना/प्रदान करना।
  5. शिक्षकों के लिए विद्यालय स्वास्थ्य शिक्षा पर शिक्षण सुविधाएँ, निर्देशिकाएँ जैसी निर्देशात्मक सामग्री तैयार करना।
  6. शिक्षकों और और शिक्षक प्रशिक्षण संस्थानों (डीआईईटीएस) के संकायों के लिए सेवा काल के दौरान प्रशिक्षण आयोजित करना।
  7. किशोरों के लिये स्वास्थ्य शिक्षा की आवश्यकताओं की पहचान करना और देश में प्रमुख किशोर स्वास्थ्य समस्याओं पर स्वास्थ्य शिक्षा को सुगम बनाना और सशक्त करना।